जो बात बोली जानी चाहिए (Was gesagt werden muss)

Hindi translation

जो बात बोली जानी चाहिए

मैं चुप क्यों रहा, क्यों छुपाता रहा इतने लंबे समय तक
वह खुला राज
जिसे बरता गया बार-बार जंगी मैदानों में, और
जिसके अंत में जो बचे हम
तो हाशिये से ज्यादा कुछ भी नहीं थी हैसियत हमारी।
 
जोर-जोर से चीख कर
उन्होंने खड़ा कर दिया एक उत्सव सा कुछ
जिसमें दब गयी ये बात, कि
यह पहले हमला करने का कथित अधिकार ही है
जो मिटा सकता है ईरानी जनता को-
क्योंकि उनकी सत्ता का दायरा फैला है
एक न्यूक्लियर बम बनने की आशंकाओं के बीच
वे मानते हैं कि ऐसा कुछ जरूर हो रहा है।
 
बावजूद इसके, क्यों रोके रहा खुद को मैं
उस दूसरे देश का नाम लेने से
जहां बरसों से, भले गुपचुप
न्यूक्लियर आकांक्षाओं की तन रही थी मुट्ठी अदृश्य
क्योंकि उस पर किसी का जोर, कोई जांच कारगर नहीं?
 
इन बातों को छुपाया गया दुनिया भर में
जिसमें शामिल थी मेरी चुप्पी भी-
जब्र तले एक झूठ की मानिंद-
जिसे सजा मिलनी ही चाहिए
बल्कि सजा मुकर्रर थी, बशर्ते इस चुप्पी को हम तोड़ते।
यहूदी विरोध के फतवे से तो आप वाकि़फ होंगे।
 
अब, चूंकि मेरा देश
जो एक नहीं, कई बार रहा साक्षी खुद अपने अपराधों का-
(और इसमें इसका कोई जोड़ नहीं)
बदले में यदि विशुद्ध व्यावसायिक नजरिये से ही
विनम्र होठों से इसे करार देकर प्रायश्चित
इजरायल को न्यूक्लियर पनडुब्बी भेजने का करता हो एलान
जिसकी खूबी महज इतनी है
कि वह दाग सकती है तमाम विनाशक मिसाइलें वहां
जहां एक भी एटम बम का वजूद अब तक नहीं हुआ साबित
लेकिन डर, ऐसा ही मानने पर करता है मजबूर बासबूत
तो कह डालूंगा मैं वो बात
जो अब कही जानी चाहिए।
 
लेकिन अब तक मैं खामोश क्यों रहा?
इसलिए, क्योंकि मेरी पैदाइश की धरती
जिस पर जमे हैं कभी न मिटने वाले कुछ दाग
रोकती थी मुझे कहने से वो सच
इजरायल नाम के उस राष्ट्र से, जिससे बिंधा था मैं
और अब भी चाहता ही हूं बिंधे रहना।
 
फिर आज क्या हो गया ऐसा
कि सूखती दवात और बुढ़ाती कलम से
मैं कह रहा हूं ये बात
कि न्यूक्लियर पावर इजरायल से
इस नाजुक दुनिया के अमन-चैन को खतरा है?
 
क्योंकि यह कहा ही जाना चाहिए
कल, हो सकता है बहुत देर हो जाए;
और इसलिए भी, कि उसका बोझ लादे हम जर्मन
न बन जाएं कहीं ऐसे किसी अपराध के भागी
जो न दिखता हो, न ही मुमकिन हो जिसका प्रायश्चित्त
पुराने परिचित बहानों और दलीलों से।
 
लिहाजा, तोड़ दी है अपनी चुप्पी मैंने
क्योंकि थक गया हूं मैं पश्चिम के दोगलेपन से;
इसके अलावा, एक उम्मीद तो है ही
कि मेरी आवाज तोड़ सकेगी चुप्पी की तमाम जंजीरों को
और आसन्न खतरा बरपाने वालों के लिए होगी एक अपील भी
कि वे हिंसा छोड़, जोर दें इस बात पर
कि इजरायल की न्यूक्लियर सामर्थ्य और ईरान के ठिकानों पर -
दोनों देशों की सरकारों को मान्य एक अंतरराष्ट्रीय एजेंसी
की रहे निगरानी
स्थायी और अबाधित।
 
एक यही तरीका है
कि सभी इजरायली और फलस्तीनी
यहां तक कि, दुनिया के इस हिस्से में फैली सनक के बंदी
तमाम लोग
रह सकें साथ मिल-जुल कर
दुश्मनों के बीच
और जाहिर है, हम भी
 
Kűldve: Michail Péntek, 13/04/2012 - 08:24
Német

Was gesagt werden muss

Warum schweige ich, verschweige zu lange,
was offensichtlich ist und in Planspielen
geübt wurde, an deren Ende als Überlebende
wir allenfalls Fußnoten sind.
 

Tovább

Hozzászólások