Música Jurm-e-Ulfat (जुर्म-ए-उलफ़त)

Hindi

Jurm-e-Ulfat (जुर्म-ए-उलफ़त)

जुर्म-ए-उलफ़त पे हमें लोग सज़ा देते हैं
कैसे नादान हैं, शोलों को हवा देते हैं

हमसे दीवाने कहीं तर्क-ए-वफ़ा करते हैं
जान जाए कि रहे, बात निभा देते हैं

आप दौलत के तराज़ू में दिलों को तोलें
हम मुहब्बत से मुहब्बत का सिला देते हैं

तख़्त क्या चीज़ है और लाल-ओ-जवाहर क्या है?
इश्क़ वाले तो ख़ुदाई भी लूटा देते हैं

हमने दिल दे भी दिया, और अहद-ए-वफ़ा ले भी लिया
आप अब शौक़ से दे लें जो सज़ा देते हैं
जुर्म-ए-उलफ़त पे हमें लोग सज़ा देते हैं

Submetido por protidondi em Domingo, 06/05/2012 - 10:57
jurm-e-ulfat pe hamen log saza dete hain
kaise naadaan hain, sholon ko hava dete hain

hamse deevaane kaheen, tark-e-vafa karte hain
jaan jaae ke rahe, baat nibha dete hain

aap daulat ke taraazu men dilon ko tolen
ham muhabbat se muhabbat ka sila dete hain

takht kya cheez hai aur laal-o-javaahar kya hain
ishq vaale to khudaai bhi loota dete hain

hamne dil de bhi diya, ahd-e-vafaa le bhi liya
aap ab shauq se de len jo saza dete hain
jurm-e-ulfat pe hamen log saza dete hain

Submetido por protidondi em Domingo, 06/05/2012 - 10:57

Vídeo

See video
Traduções de "Jurm-e-Ulfat (जुर्म-ए-उलफ़त)"
Comentários