Реклама

आरम्भ है प्रचंड (Arambh hai prachand) (транслитерация)

आरम्भ है प्रचंड

आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम भुहार दो
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम भुहार दो
आन बान शान याकि जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण पे उतार दो
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम भुहार दो
आन बान शान याकि जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण पे उतार दो
आरम्भ है प्रचंड
 
मन करे सो प्राण दे, जो मन करे सो प्राण ले
वही तो एक सर्व शक्तिमान है
मन करे सो प्राण दे, जो मन करे सो प्राण ले
वही तो एक सर्व शक्तिमान है
विश्व की पुकार है, ये भागवत का सार है
की युद्ध ही तो वीर का प्रमाण है
कौरवों की भीड़ हो,या पांडवों का नीड़ है
जो लड़ सका है वही तो महान है
 
जित की हवस नहीं, किसी पे कोई वश नहीं
क्या जिंदगी है, ठोकरों पे मार दो
मौत अंत है नहीं, तो मत से भी क्यूँ डरें
ये जाके आसमान में दहाड़ दो
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम भुहार दो
आन बान शान याकि जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण पे उतार दो
आरम्भ है प्रचंड
 
हो दया का भाव याकि शौर्य का चुनाव
याकि हार का वो घाव तुम ये सोचलो
हो दया का भाव याकि शौर्य का चुनाव
याकि हार का वो घाव तुम ये सोचलो
याकि पुरे भाल पर जला रहे विजय का लाल
लाल ये गुलाल तुम ये सोच लो
रंग केसरी हो, या मृदंग केसरी हो
याकि केसरी हो ताल तुम ये सोचलो
 
जिस कवी की कल्पना में जिंदगी हो प्रेमगीत
उस कवी को आज तुम नकार दो
भीगती नसों में आज, फूलती रंगों में आज
आग की लपट का तुम बखार दो
आरम्भ है प्रचंड, बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम भुहार दो
आन बान शान याकि जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण पे उतार दो
आरम्भ है प्रचंड,आरम्भ है प्रचंड,आरम्भ है प्रचंड,आरम्भ है प्रचंड
 
Публикувано от PrathameshPrathamesh в(ъв)/на четв., 06/05/2021 - 06:16
транслитерация
Подравняване на параграфите

Arambh hai prachand

Ārambh hai pracaṇḍ, bole mastakoṁ ke jhuṇḍ
Āj jaṅg kī ghar̤ī kī tum bhuhār do
Ārambh hai pracaṇḍ, bole mastakoṁ ke jhuṇḍ
Āj jaṅg kī ghar̤ī kī tum bhuhār do
Ān bān śān yāki jān kā ho dān
Āj ik dhanuṣ ke bāṇ pe utār do
Ārambh hai pracaṇḍ, bole mastakoṁ ke jhuṇḍ
Āj jaṅg kī ghar̤ī kī tum bhuhār do
Ān bān śān yāki jān kā ho dān
Āj ik dhanuṣ ke bāṇ pe utār do
Ārambh hai pracaṇḍ
 
Man kare so prāṇ de, jo man kare so prāṇ le
Vahī to ek sarv śaktimān hai
Man kare so prāṇ de, jo man kare so prāṇ le
Vahī to ek sarv śaktimān hai
Viśva kī pukār hai, ye bhāgavat kā sār hai
Kī yuddh hī to vīr kā pramāṇ hai
Kaurvoṁ kī bhīr̤ ho,yā pāṇḍvoṁ kā nīr̤ hai
Jo lar̤ sakā hai vahī to mahān hai
 
Jit kī havas nahīṁ, kisī pe koī vaś nahīṁ
Kyā jindgī hai, ṭhokroṁ pe mār do
Maut ant hai nahīṁ, to mat se bhī kyūṁ ḍareṁ
Ye jāke āsmān meṁ dahār̤ do
Ārambh hai pracaṇḍ, bole mastakoṁ ke jhuṇḍ
Āj jaṅg kī ghar̤ī kī tum bhuhār do
Ān bān śān yāki jān kā ho dān
Āj ik dhanuṣ ke bāṇ pe utār do
Ārambh hai pracaṇḍ
 
Ho dayā kā bhāv yāki śaury kā cunāv
Yāki hār kā vo ghāv tum ye soclo
Ho dayā kā bhāv yāki śaury kā cunāv
Yāki hār kā vo ghāv tum ye soclo
Yāki pure bhāl par jalā rahe vijay kā lāl
Lāl ye gulāl tum ye soc lo
Raṅg kesrī ho, yā mṛdaṅg kesrī ho
Yāki kesrī ho tāl tum ye soclo
 
Jis kavī kī kalpanā meṁ jindgī ho premgīt
Us kavī ko āj tum nakār do
Bhīgtī nasoṁ meṁ āj, phūltī raṅgoṁ meṁ āj
Āg kī lapaṭ kā tum bakhār do
Ārambh hai pracaṇḍ, bole mastakoṁ ke jhuṇḍ
Āj jaṅg kī ghar̤ī kī tum bhuhār do
Ān bān śān yāki jān kā ho dān
Āj ik dhanuṣ ke bāṇ pe utār do
Ārambh hai pracaṇḍ,ārambh hai pracaṇḍ,ārambh hai pracaṇḍ,ārambh hai pracaṇḍ
 
Благодаря!

ଓଡ଼ିଆ ଗୀତିକାବ୍ୟ

Публикувано от PrathameshPrathamesh в(ъв)/на четв., 06/05/2021 - 06:16
Коментар от качилия текста:

One of the few Hindi masterpieces from infamous bollywood.

Преводи на „आरम्भ है प्रचंड ...“
транслитерация Prathamesh
Коментари
Read about music throughout history